पारखी होता तो
परख लेता मुझको
पत्थरों में से ढूंढ लेता
मिट्टी में ना खोने देता
तराश देता जो मुझको
प्यार विश्वास से
काँच ना मिला होता
हीरा तुमने पाया होता।