प्रार्थना

हम सब तेरे बालक हैं माँ
हमको शरण लगा लेना
हमको शरण लगा लेना माँ
तव चरणों में जगह देना
हम सब——–
कलि काल का असुर धनेरा है
माँ चारों तरफ अंधेरा है
हमको ज्योति दिखला देना
माँ हमको राह बता देना
हम सब————
संसार समुद्र गहरा है माँ
नहीं यहाँ कोई रहवर है
पग पग फैले है भंवर
हमको भंवरों से बचा लेना
हम सब———-
तुम विशवेशवरी हो माता
जगदम्बा तुम ही कहाती हो
कष्टों में घिरे जो बालक तेरे
तु उनके कष्ट मिटा देना
हम सब————
दो हमको आशीष हे माँ
सदा तव चरणों में ध्यान रहे
यावत रहें सूर्य चन्द यहाँ
इस संसार में तेरा गुण गान रहे
हम सब तेरे बालक है माँ
हमको शरण लगा लेना
हमको शरण लगा लेना माँ
तव चरणों में जगह देना ।

नवरात्रा रो त्योहार

🌷🌷🌷🌷🌷
आयो री सखी, नवरात्रा रो त्योहार ,
घर आंगणै पधारेगी ,आपणै प्यारी अम्बे माँ ।
उमंग,उत्साह मन में घणों रे भरो,
सत्कार स्वागत री करो तैय्यारी ।
आयो री सखी नवरात्रा रो त्योहार,
घर आंगणै पधारेगी, आपणै प्यारी अम्बे माँ ।

घर द्वार नें संवार ल्या,फूला री झालर बणावा,
आंगण बुहार ,चोखा माडंना बणावा,
रोली,मौली धूप ,दीप ,अक्षत सू थाल ने सजावा।
आयो री सखी नवरात्रा रो त्योहार,
घर आंगणै पधारेगी ,आपणै प्यारी अम्बे माँ ।

घट में सरस पाणी भर ,गंगा रो नीर मिलावा,
लाल चुनर उड़ार, श्रीफल ने सजावा ,
माटी रा कुंडा में जौ बौआ,घट स्थापित कर ,
अखंड जोत दीवड़ा में, जोड़ा ।
आयो री सखी नवरात्रा रो त्योहार,
घर आंगणै पधारेगी, आपणै प्यारी अम्बे माँ।

खीर, पुआ,सीरा रो भोग लगावा,
श्रृद्धा सू मैंया की करा आरती,
मगंलगीत सुवावणा गावा री सखी,
अम्बे माँ ने रिझावा।
आयो री सखी नवरात्रा रो त्योहार ,
घर आंगणै पधारेगी, आपणै प्यारी अम्बे माँ ।

माँ सू करा, हाथ जोड़ अरज या सब,
ज्यौं-ज्यौं ज्वारा बढें, त्यौं-त्यौं घर-संसार में,
आनंद घणों रे बढें ,सुमति,भक्ति माँ की सबने मिले,
महामारी रो त्रास, सारा जग स मिटे।
आयो री सखी नवरात्रा रो त्योहार,
घर आंगणै पधारेगी आपणै प्यारी अम्बे माँ ।

🙏🏻🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
माँ भवानी अम्बे की कृपा आप और आपके परिवार पर सदा बनी रहे, आप सभी स्वस्थ रहे, प्रसन्न रहें ।
नवरात्रा के मंगलमय,भक्तिमय व शक्तिमय पर्व की
हार्दिक शुभकामनायें 🌷🌷🙏🏻😊

-अनिता

जिंदगी


बंद मुट्ठी, रेत सी, ये जिंदगी फिसलती गई,
आईने के सामने, बनते संवरते हुए,
ये सूरते बदलती रही ।
बंद मुट्ठी, रेत सी, ये जिंदगी फिसलती गई,
बंद मुट्ठी रेत सी ………
टूट कर जुड़ने,जुड़ के फिर,
टूटने के, दरम्यान ,
ये जिंदगी बिखरती गई।
मृगमरीचिका की तरह,
सपनों के पीछे भागते फिरते हुए
ये जिंदगी गुजरती रही ।
बंद मुट्ठी रेत सी ,ये जिंदगी फिसलती गई ,
बंद मुट्ठी रेत सी ———
संवारा ना उसे, जो है हमको मिला,
ना मिला उसकी तलाश में,
ये जिंदगी भटकती रही।
जीने की चाह, जगा हरेक दिन,
मिटाते रहें हरेक दिन,
ये देख जिंदगी मरती रही ।
बंद मुट्ठी रेत सी, ये जिंदगी फिसलती गई ,
बंद मुट्ठी रेत सी ———-
जुनून मोहब्बत का जो मेरे सीने में है,
वो जुनून तुझमें देखने को,
ये जिंदगी तड़पती रही ।
साथ होकर भी हम,
साथ हो ना सके, ये देखकर,
ये जिंदगी शरमाती रही।
बंद मुट्ठी रेत सी ये जिंदगी फिसलती गई ,
बंद मुट्ठी रेत सी ———–।

अनिता

स्तुति



माँ 🙏🏻
🌷🌷🌷🌷🌷🌷
मातेश्वरी तू धन्य हैं, मातेश्वरी तू धन्य है।
कहता कोई सीता तुझें,कहता कोई तू शक्ति है,
कहता कोई तू है प्रकृति,कहता कोई आसक्ति है,
कहता कोई राधा तुझें,कहता कोई अनुरक्ति है
तू सर्वरूपा प्रेमियों के प्राणधन की भक्ति है,
तेरे अमित उपकार के आनंद अनुभव जन्य है,
मातेश्वरी तू धन्य है मातेश्वरी तू धन्य है।
तू कुटिल कली दल के लिए कुलिश मूर्ति करालिका,
हरि हर विमुख नर के लिए कृत्या तू ही है कालिका ,
तू वैष्णवी है वैष्णवों के कंठ तुलसी मालिका,
तू प्रभु पदाश्रित जीव की प्रत्येक पल पल पालिका,
तू ब्रह्म जीव मिलाप की सदग्रंथ सुदृढ़ अनन्य है,
मातेश्वरी तू धन्य है मातेश्वरी तू धन्य है ।
तू कर्म योगी के लिए सत्कीर्ति की परम ललाम,
तू ज्ञानीयों की अटल श्रद्धा मानसिक विश्राम है,
तू ध्यानीयों की शक्ति पूर्ण समाधि है सुखधाम है,
तू दामिनी से ही सुशोभित बिंदुमय घनश्याम है,
तेरा उपासक जो नहीं वो जीव कृतध्न है,
मातेश्वरी तू धन्य है मातेश्वरी तू धन्य है ।
🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿

लेखक–अज्ञात

रहस्य ये सुलझा दो तुम 🙏🏻

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
क्षीर सागर में योग निद्रा में लीन,
हैं लीलाधर रहस्य ये सुलझा दो तुम, 🙏🏻
रहस्य ये सुलझा दो तुम 🙏🏻
सृष्टि की रचना,पालन व संहार सब हाथ तुम्हारे ,
खेल अपने प्रमोद हेतु है क्या ? ये स्वयं तुम्हारा,
पंच तत्व से निर्मित माटी की ये देह,
खेल तुम्हारा खिलाड़ी हम ,
निर्णायक तुम विजेता, पराजित हम,
सृष्टि रगंमच तुम्हारा, पटकथा तुम्हारी,
कठपुतलियाँ हम सूत्रधार हो तुम ,
नचाते जैसा, वैसा नाचे नाच हम,
काम, क्रोध, मद,लोभ,मोह, ईर्षा व रोग धागें तुम्हारे,
फँसते,उलझते व सुलझाते,
सुखी-दुखी, हँसते-रोते हम,
एक पत्ता भी नही हिलता,
कहते बिन मर्जी तुम्हारे ,
पात्र तुम्हारे फिर कैसे ?
भागी बनते पुण्यों और पापों के,
सृष्टि के रगंमच में पात्र निभाते,
आगे के संवादों, भूमिका से अनभिज्ञ है रहते,
आज, कल,परसों, बरसों की रख सोच है जीते,
माया कैसी तुम्हारी भरोसा नहीं अगले ही पल होने का,
भूलावें में रहें शाश्वत रहने का,
जानबूझ के रहे सत्य से परे,
पात्र निभाते सृष्टि के रगंमच से ,
भूमिका कब हो जाएगी समाप्त ,
अनभिज्ञ रह जीते सभी,
आना-जाना गर होता अधिकार हमारे,
जन्म-मृत्यु के चक्र में हम उलझते ?
सृष्टि में हम क्या ? आते जाते ,
क्षीर सागर में योग निंद्रा में लीन,
है लीलाधर रहस्य ये सुलझा दो तुम,🙏🏻
रहस्य ये सुलझा दो तुम ।🙏🏻

🌷🌷अनिता शर्मा

योगनिद्रा का अर्थ

वो तेरी चाय की प्याली

🌷🌷☕☕☕☕🌷🌷
1–🌼यादों के झरोखों से 🌼
🌷🌷🌷🌷🌷
सच में बहुत याद आती है,
राधिका तुम और तुम्हारी चाय,
एक कप चाय सिर्फ चाय नहीं होती,
बहाना मेल-मिलाप का ही नहीं,
यादगार पलों की कहानी होती है,
हिस्सा खट्टें – मीठें किस्सों का होती हैं,
बहुत कुछ सीखने व जानने का जरिया,
बहुत कुछ पाने व देने का जरिया,
चाय की प्याली बन जाती है,
माना कई वर्ष गुजर गये लम्हों को बीते,
अंकित है मानस पटल पर आज भी,
राधिका तुम और तुम्हारी चाय,
नया शहर,अनजान लोग, परेशान था मन,
हाँफ बर्थ डे का केक बिटिया का आयी थी देने,
बगल वाले घर में रहती बताया था तुमने,
कुछ बातें हुई घर आने को बोला था तुमने,
एक शाम मैं घर आयी तुमने चाय पिलाई थी,
वो चाय कितनी ही मुलाकातों का हिस्सा बन गयी,
जैसा नाम वैसा ही निश्छल प्रेम है तुम्हारा,
शाम की अधिकांश चाय साथ तुम्हारे होने लगी,
बडी बहन सा अधिकार,छोटी बहन सा प्यार जताना,
बच्चों ने मौसी, बुआ सा अपनापन तुमसे पाया,
चाय फिर अकेली कहाँ रही,
समोसा, जलेबी की दावत संग,
शर्मिला, टिम्सी,सोमी,रश्मी को भी जोड गई,
समोसा,जलेबी की पार्टी, बच्चों के संग तुम्हारी मस्ती
वो मनुहार कर नाश्ते की पूरी प्लेट खाली करवाना,
तुम्हारा अपनापन, शरारत,मीठी मुस्कान व हँसी,
प्रार्थना हैं ईश्वर से सदा बनायें रखे ,
सच में बहुत याद आती हैं,
राधिका तुम और तुम्हारी चाय ।

🌼🌼🌼☕☕ 🌼🌼🌼 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 -अनिता शर्मा


कहाँ जा रहे हैं हम

कहाँ जा रहें हैं,कहाँ जायेंगे,
ज्वलंत समस्या हैं ये,
रूक कर चिन्तन गम्भीर ,
अब हमें करना होगा,
महत्वपूर्ण ईकाई समाज की,
कगार पे टूटने की,
कब के टूटे संयुक्त परिवार,
कगार पर एकल परिवार,
आधुनिकता, भोगवादी विचारधारा, पाश्चात्य संस्कृति, पैसा और पैसा कमाना सिखाने वाली मूल्यहीन शिक्षा, युवाओं को भटकाते,आदर्शहीन,मूल्यहीन,नशा,
लिव इन रिलेशनशिप की,वकालत करते चलचित्र,
कैसे परिवार,कैसा समाज,देश,
कुछ समय बाद होगा,
प्रश्न चिन्ह लगा है ये,
चिन्तन हमें अब होगा करना,
भूल कहाँ हुई है, हमसे,
कहाँ है चूके हम,बदल रहा सब,
बदलाव गर ऐसा रहा,
भविष्य होगा क्या ? भावी पीढ़ीयो का ,
क्या बदलाव ये, बदलता नारी स्वरूप है ,
घर, परिवार,रिश्तों को संवारती,
सहनशीलता की मूर्ति,
कुछ सदियों से शोषित ,अपमानित पुरूषों से हुई, पारिवारिक कार्यो को गौण मान,महत्व ना समझा,
बुद्धिहीन ,अबला मान पग-पग,अत्याचार किये ,
शिक्षित हो नारी ने,आर्थिक निर्भरता पायी आज,
पुरूषों के संग, समान काम करती नारी,
पैसा ,पदोन्नति, स्वयं का अस्तित्व महत्वपूर्ण हुआ,
पुरूष तत्व जागा उसका, नारी तत्व खोने लगा,
नारी के लिए घर,परिवार,प्रेम अब होने लगे गौण,
नानी,दादी,माँ जैसी भारतीय नारी,
अब कही खोने लगी,
दस,पंद्रह साल बाद कैसे होगे,
घर, परिवार ,समाज ,
चिन्तन हम सबको, अब करना होगा,
स्मरण फिर रखना होगा, करवाना होगा ,
विचारधारा हमारी संस्कृति ,परम्पराओ की,
सिया-राम सी, हो मर्यादा,
राधा-कृष्ण सा, प्रेम हो,
शिव-पार्वती सा साथ हो,
नर-नारी के जीवन में, इनका ही आर्दश रहे,
विवाह ओर सप्तपदी के वचनों का महत्व सदा रहे,
अस्तित्व परिवार,समाज,संस्कृति का बना रहेगा तभी,
सुरक्षित होगी भावी पीढ़ी,उत्थान तभी होगा देश का,

कहाँ जा रहे हैं, कहाँ जायेंगे,
ज्वलंत समस्या है ये,
रूक कर चिन्तन गम्भीर,
अब हमें करना होगा ।

अनिता शर्मा

घर आये कन्हैया [भजन]

माँ यशोदा है, बड़ी भाग्यशाली,
नंद बाबा, बड़े ही पुण्यात्मा ,
उनके आंगन, आनंद अति छायो,
उनके घर है, आये कन्हैया ।

1 रक्षा करते हैं, जो सारे जग की ,
रक्षा करवाने,माँ यशोदा,पास आये,
माया से नाच, नचाये सारे जग को,
माया दिखलाने, माँ यशोदा घर आये,

माँ यशोदा हैं, बड़ी भाग्यशाली,
नंद बाबा, बड़े ही पुण्यात्मा,
उनके आंगन, आनंद अति छायो,
उनके घर है ,आये कन्हैया ।

2 पालन कर्ता हैं, जो सारे जग के
पलने आये, माँ यशोदा की गोद में,
अन्नदाता है जो, सारे जग के,
माखन-मिश्री,माँ यशोदा से,खाने को आये,

माँ यशोदा हैं, बड़ी भाग्यशाली ,
नंद बाबा, बड़े ही पुण्यात्मा ,
उनके आंगन, आनंद अति छायो,
उनके घर है ,आये कन्हैया ।

3 लीला रचियेता, अपनी लीला रचके
लीला दिखलाने माँ यशोदा, आंगन आये,
प्रेम का है, जो अथाह सागर,
प्रेम पाने, माँ यशोदा का आये,

माँ यशोदा हैं, बड़ी भाग्यशाली,
नंद बाबा, बड़े ही पुण्यात्मा ,
उनके आगंन,आनंद अति छायो,
उनके घर है, आये कन्हैया ।
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें
🌷जय श्री कृष्णा 🙏🏻

अनिता शर्मा

सुविचार

व्यक्ति जब तक मर्यादा, नैतिकता, आदर्शो की डोर से बंधा रहता है,तब तक उसका जीवन पतंग की भाँति प्रगतिशील ओर ऊँचाईयों को छूता रहता है ।
व्यक्ति जब यह डोर तोड देता है, तो उसके जीवन का हश्र भी पतंग की ही भाँति होता है,जो डोर से टूटने के बाद कहाँ गिरेगी ओर किसके हाथों में होगी पता नहीं।

जय श्री कृष्णा

अनिता शर्मा

साँझ 🌇

साँझ को कुछ पलों के लिए ,
थम सी जाती है जिंदगी ,
एक मौन सा पसार ,
दबे पांव आती है साँझ ,
भूले बिसरे बिछुड़ो की,
कुछ अपने ओर परायो की,
याद दिला रुला जाती है, साँझ
मैं कौन कैसे ,क्यो
कब से कब तक ,
अगणित प्रश्न छोड़ लौट जाती है ,साँझ
भीड़ में भी अकेले होने का ,
संपूर्णता में शून्यता का ,
शाश्वता में नश्वरता का
एहसास दिला जाती है साँझ,
कुछ खटे मीठे कड़वे से ,
प्रेम से भीगे, दर्द से भरे,
हँसते रोते गुनगुनाते,
दृश्य मानस पटलपर,
उकेर जाती है साँझ ,
प्रकृति के अंश को ,
प्रकृति से कुछ पल मिला,
जिंदगी की हलचल से,
फिर जोड़ जाती है साँझ
-अनिता